| इस पृष्ठ को प्रिंट करें
English Web Site
मुख्यपृष्ठ हमारे बारे में कार्यक्रम प्रकाशन सोनभद्र को जानें

 

 
| मिशन एवं उद्देश्य | उपलब्धियां | संगठनात्मक संरचना |
 

संगठनात्मक संरचना

 

शासी निकाय

बनवासी सेवा आश्रम का शासी निकाय इसका सर्वोच्च संगठन है। इसमें विख्यात सामाजिक कार्यकर्ता, विशेषज्ञ, कार्यकर्ता, स्थानीय वरिष्ठ लोग, युवा, बुनकर एवं कताई करने वाले सम्मिलित हैं। इसकी वर्ष में दो बार बैठकें होती हैं।

शासी निकाय निम्न के लिए उत्तरदायी है:

  • संस्था के विजन के परिपेक्ष्य में कार्यक्रम नियोजन के बारे में नीतिगत निर्णय
  • संस्था के हितों, संपत्तियों तथा साख की रक्षा करना
  • पुरानी, चल रही एवं नई गतिविधियों के लिए वित्त जुटाना तथा उसका प्रबंधन करना
  • कार्य को आगे बढ़ाना
  • किए गए कार्य का आंकलन करना

विभागीय प्रमुख

संस्था के विभाग हैं: स्वास्थ्य, कृषि, पशुपालन, शिक्षा तथा प्रशिक्षण, स्वास्थ्य तथा चिकित्सा, खादी एवं ग्रामोद्योग, महिला विकास तथा ग्रामीण हकदारी। कुल मिलाकर ये विभाग ग्राम विकास केन्द्र का निर्माण करते हैं।

विभागीय प्रमुख निम्न के लिए उत्तरदायी हैं:

  • चल रहे कार्य का प्रबंधन
  • विकास परियोजना गतिविधियों का अनुश्रवण
  • समस्याओं एवं आवश्यकताओं से संबंधित उपलब्धियों का आंकलन
  • अन्य ग्राम विकास कर्मचारियों एवं सहयोगियों के सहयोग से अनुभव तथा प्रसार

ग्राम निर्माण केन्द्र निम्न के लिए उत्तरदायी हैं:

  • केन्द्र तथा उनकी गतिविधियों का प्रबंधन
  • समुदाय में जागरूकता प्रसार
  • ग्रामस्वराज्य गतिविधि का प्रोत्साहन
  • समुदाय के साथ संपर्क एवं सहायता तथा दिशा निर्देश देना
  • समस्याओं को समझना तथा आश्रम, पंचायत एवं विकास खण्ड स्तर पर उनको उठाना
  • लोगों की भागीदारी से परियोजना गतिविधियों का संचालन करना

महाप्रबंधक

महाप्रबंधक आश्रम का वरिष्ठ कार्यकर्ता होता है। वह संबंधित विभागों, अन्य सहयोगियों एवं क्षेत्र कार्यकर्ताओं की सहायता से गतिविधियों का समन्वयन एवं अनुश्रवण करता है। वह निम्न के लिए उत्तरदायी होता है:

  • कैम्पस, लेखा तथा कार्यालय में गतिविधियों का सामान्य प्रबंधन तथा समन्वयन
  • लेखा, स्टोर तथा रखरखाव विभागों के अध्यक्षों के साथ 2-3 महीनों में बैठकों का आयोजन
  • परियोजना क्रियान्वन तथा अनुश्रवण

जन संगठन

त्रि-स्तरीय जन संगठनों की प्रमुख भूमिकाएं निम्न हैं:

ग्रामस्वराज्य सभा

  • समुदाय के साथ पर्यावरणीय मुद्दों पर चर्चा
  • सुधार तथा कार्यवाही के लिए निर्णय
  • वाद निवारण
  • ग्राम कोष
  • विकासात्मक पहल
  • आश्रम के विकासात्मक प्रयासों में भागीदारी
  • पंचायती राज में भागीदारी
  • ग्राम कोष का सृजन एवं इसका उपयोग

क्षेत्रीय ग्रामस्वराज्य सभा

  • ग्रामस्वराज्य सभा की स्थिति तथा कार्यकलापों का आंकलन
  • समस्याओं को पहचानना एवं उनका समाधान करना
  • कार्यक्रम नियोजन
  • ग्रामकोष का संचालन
  • केन्द्र का रखरखाव

केन्द्रीय ग्रामस्वराज्य सभा

  • नीतिगत निर्णय
  • वार्षिक कार्यक्रम
  • बजट
  • मूल्यांकन तथा अनुश्रवण
  • स्थिति विश्लेषण एवं कार्यक्रम आंकलन